500 और 1000 के नोटों के साथ क्या किया जा रहा है, देखकर आपको यकीन नहीं होगा

45

केंद्र सरकार ने शायद अब तक का सबसे हाहाकारी फैसला यही लिया होगा जब उन्होंने ये तय किया कि अब देश में 500 और 1000 रुपये के नोटों का प्रयोग एकदम से बंद कर दिया जायेगा. जैसे ही सरकार का ये फैसला आया, आम और ख़ास सभी नागरिकों ने अपने घर बैंक कहीं भी मौजूद इन नोटों को जल्दी-जल्दी घर से निकालना शुरू कर दिया. देखते ही देखते पुराने नोट्स देश से हटा दिए गए और उनकी जगह ले ली गुलाबी, नारंगी और हरे रंग की नयी नोटों ने. ऐसे में क्या आपने कभी सोचा कि हमारी वो पुरानी नोट्स इस वक़्त कहाँ हैं और उनका क्या किया जा रहा है?

Old Currency 500 1000

आइये आज हम आपको बताते हैं कि आखिर आपकी और हमारी मेहनत से कमाई गयी इन नोटों के साथ आज क्या ही किया जा रहा है. हमारा दावा है कि नोटों का ऐसा हाल आपने कभी सोचा भी नहीं होगा. एक रिपोर्ट के अनुसार देश के करीब 1.5 टन नोट को फाइल पैड बनाने में इस्तेमाल किए जा रहा है. हमें मिली एक जानकारी के अनुसार अब इन नोटों को जिनका भाव कुछ भी नही रह गया है उन्हें अब स्टेशनरी आइटम के तौर इस्तेमाल में लाया जायेगा. बताया जा रहा है इसी वजह से मार्केट से बंद हुए ये नोट अन जेल पहुंचाए गए हैं ताकि इन्हें दोबारा इस्तेमाल में लाया जा सके.

Old Currency 500 1000
Source

इस मामले में अब तक मिली जानकारी के बाद कहा जा रहा है कि 500 और 1000 रुपये के इन नोटों को तमिलनाडु के चेन्नई शहर में पुजहल केंद्रीय कारागार में पहुँचाया गया है. जहाँ अब ये तकरीबन 25 से 30 इन नोटों से स्टेशनरी बनाते हैं. इस काम का नतीजा ये हो रहा है कि अब इन नोटों से तकरीबन रोजाना ही 1000 फाइल पैड्स तैयार होते हैं. क़ैदी महीने में 25 दिन ये काम करते हैं. यहाँ ये भी जानना दिलचस्प है कि इस काम को आठ घंटे काम करने के 160 से 200 रुपए दिहाड़ी मिलती है. इस काम के लिए सबसे पहले नोटों की लुग्दी बनायी जाती है और फिर इनमें डाई डालकर कुछ समय के लिए सुखाया जाता है. सूख जाने के बाद इन्हें फाइल पैड का रूप दिया जाता है.

Old Currency 500 1000
Source

इन नोटों को जेल में RBI ने ही मुहैया करवाया है और इस बात की पुष्टि की है खुद तमिलनाडु जेल विभाग के डिप्टी इंस्पेक्टर जनरल (प्रभारी) ने. जेल प्रभारी ने आगे बताया कि, “रिजर्व बैंक को हमें 70 टन नोट देने की बात कही है, जिसमें नौ टन नोट हमें मिल चुके हैं। बाकी बचे हुए नोटों को कुछ हिस्सों में यहां लाया जाएगा.”

Source thenewscafe

Leave A Reply

Your email address will not be published.