7 साल के मासूम से कुकर्म कर निकाल ली आँखें, पढ़े पूरी खबर

94

हरकेश नगर इलाके में एक सात साल के मासूम चाहत की कुकर्म के बाद गला घोंटकर हत्या कर दी गई। उसके बाद उसके शव को नाले में फेंक आरोपी मौके से फरार हो गया। लेकिन, पिछले चार दिनों में पुलिस आरोपी तक नहीं पहुंच सकी न ही बच्चे का पता चला। जब उसका शव नाले में फूलकर ऊपर आ गया तो बच्चे की हत्या के बारे में पता चला।

उसके परिजनों का आरोप है कि उसके गले पर चोट के निशान मिले हैं और उसका जीभ भी बाहर निकली है। एम्स में पोस्टमार्टम के बाद शव परिजनों को सौंप दिया गया। वीरवार शाम हिंदू रीति-रिवाज से उसका अंतिम संस्कार कर दिया गया। हालांकि इस बाबत कोई भी पुलिस अधिकारी कुछ भी बोलने से बचते रहे। ओखला पुलिस हत्या का मामला दर्ज कर लिया है।

पुलिस का कहना है कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही सही कारणों का पता चलेगा। पुलिस आरोपी की तलाश में जुटी हुई है। राकेश (30) अपने परिवार के साथ ए ब्लॉक हरकेश नगर इलाके में रहता है। वह बेलदार का काम करता है। वैसे मूलरूप से वह बिहार के खगड़िया जिला का रहने वाला है। परिवार में पत्नी पूजा, सात साल का बेटा चाहत और बेटी अंजली है। चाहत बड़ा था राकेश के साढू विपिन कुमार का आरोप है कि वीरवार सुबह साढ़े छह बजे पुलिस ने सूचना दी | कि चाहत का शव इलाके के ही मिस्त्री वाले चौक पर मिला है। सूचना के बाद पीड़ित परिवार एम्स पहुंचा, जहां उसके शव का पोस्टमार्टम किया जा रहा था। उन्होंने बताया कि वारदात को उनके पड़ोस में ही रहने वाला संदीप (22) ने दिया है। वारदात के बाद आरोपी को नोएडा से पकड़ लिया गया है

मथुरा रोड से लेकर सरिता विहार तक लगा रहा जाम
चाहत की मौत की सूचना के बाद नाराज परिजनों ने जाम लगा दिया। इस कारण पूरा मथुरा रोड,
ओखला रोड सरिता विहार तक जाम के झाम में फंसा रहा। इसका असर साउथ ईस्ट के पूरे इलाके में पड़ा। नई दिल्ली की तरफ आने वाली गाडियां भी जाम में फंसी रही। आश्रम चौक से लेकर निजामुद्दीन तक भी जाम लगा रहा। नाराज लोग दिल्ली पुलिस के खिलाफ नारेबाजी करते रहे।

घटना के वक्त घर के बाहर खेल रहा था मासूम
पुरुषोतम उर्फ चाहत की हत्या के बाद आरोपी ने उसकी आंखें तक निकाल लीं । चाहत के रिश्तेदार विपिन ने बताया कि वीरवार सुबह साढ़े छह बजे पुलिस ने सूचना दी थी कि चाहत का शव नाले से मिला है और शव को पोस्टमार्टम के लिए । एम्स में भेज दिया गया है। सूचना के बाद जब चाहत के पिता और अन्य सदस्य पहुंचे तो देखा कि उसके गले पर चोट के निशान हैं। उसकी जीभ बाहर निकली हुई थी। यही नहीं, उसकी दोनों आंखें भी नहीं थी। रिश्तेदार विपिन ने बताया कि दो अप्रैल की दोपहर करीब तीन बजे चाहत अपने घर के बाहर खेल रहा था। काफी देर बाद जब वह घर वापस नहीं आया, तो परिवार वाले उसकी तलाश में निकले।

काफी तलाश के बाद बच्चे का पता नहीं चला । तब देर रात पीड़ित परिवार ने ओखला थाने में जाकर बच्चे की गुमशुदगी के बारे में बताया लेकिन परिवार का आरोप है कि पुलिस ने गुमशुदगी का मामला तो दर्ज कर लिया लेकिन बच्चे की तलाश नहीं की। पिछले चार दिनों तक परिवार खुद ही चाहत की तलाश में जुटा हुआ था। सूचना भी तब मिली जब उसकी मौत हो चुकी थी। विपिन ने बताया कि करीब 15 साल पहले राकेश दिल्ली आया था। उसके सारे रिश्तेदार नाते भी यही रहते हैं। राकेश बड़ा ही सरल स्वभाव का इंसान है और लोगों की मदद में आगे रहता है। उसका किसी के साथ कोई लड़ाई झगड़ा भी नहीं है। चाहत भी इलाके के ही सरकारी स्कूल में दूसरी कक्षा में पढ़ाई करता था।

बडी चाहत के बाद हुआ था जन्म
उन्होंने बताया कि चाहत घर का लाडला था। घर का वह बड़ा बेटा होने के कारण घर वाले और नाते रिश्तेदार भी उसे बहुत प्यार करते थे। उससे छोटी उसकी बहन अंजली है। चाहत के जन्म के बाद उसके माता-पिता ने पुरुषोतम नाम रखा था। लेकिन सभी उसे प्यार से चाहत के नाम से पुकारते थे। लेकिन उसकी मौत के बाद घर वालों का रो-रोकर बुरा हाल है। उसकी मां पूजा बार-बार बेहोश हो जा रही है।

पुलिस अधिकारी के मुताबिक, आरोपी संदीप बच्चे के पड़ोस में ही रहता था। वारदात को अंजाम देने के बाद वह नोएडा स्थित सेक्टर 37 में अपने जीजा के घर जा छिपा था। पुलिस ने सूचना के आधार पर छापेमारी कर उसे नोएडा से गिरफ्तार कर लिया। पूछताछ में उसने हत्या की बात स्वीकार की। उसने बताया कि वह यौनाचार के लिए बच्चे को अपने साथ ले गया था। उस वक्त उसके साथ यौनाचार किया। फिर पकड़े जाने के डर से उसका गलादबा हत्या कर दी। फिर ओखला स्थित नाले में उसे फेंक फरार हो गया।

पुलिस ने हत्या और 10 पॉक्सो के तहत मामला दर्ज कर आरोपी को नोएडा से उसके जीजा के घर से गिरफ्तार कर लिया है। उसने हत्या की बात कबूल कर ली है। आरोपी ने बताया कि वह उसे यौनाचार के मकसद से ले गया था। लेकिन विरोध करने पर हत्या कर नाले में फेंक दिया था।