क्या सच में गंगा से बाहर आई है ये जलपरी? जानें वायरल वीडियो का पूरा सच

181

जलपरी मालूम है न आपको? पानी में रहने वाली परियां. आधा शरीर मछली का. आधा इंसान का. बचपन में एक जलपरी वाली कहानी पढ़ी थी.

एक जलपरी चांदनी रात में बिना किसी को बताए अपने लोक से बाहर निकल आती है. उसको एक मछुआरे से प्यार हो जाता है. दोनों शादी कर लेते हैं. हमको लगता था जलपरियां बस किस्सों में होती हैं. मगर ये भी एक किस्सा है. कुछ दिनों से सोशल मीडिया पर एक पोस्ट वायरल हो रही है. इसमें एक जलपरी दिखती है. सच-मुच की जलपरी. कुछ दिनों पहले ओखी नाम का चक्रवात आया था. लोग कह रहे हैं कि इसी चक्रवात में ये जीव बाहर आया और लोगों के हाथ लग गया.

ये उसी वीडियो से ली गई स्टिल फोटो है. पिछले 10-15 दिनों से खूब वायरल हो रही है. लोग धड़ाके से शेयर कर रहे हैं और मान भी रहे हैं कि ये जलरपरी के खानदान का जीव है.

क्या है ये वायरल पोस्ट?
कई तस्वीरें तैर रही हैं सोशल मीडिया पर. एक वीडियो भी चल रहा है. इसमें एक अजीब सा दिखने वाला जीव नजर आता है. लकड़ी के एक तख्त पर लेटे हुए. मुंह के बल लेटा है वो. हाथ पीछे बंधे हुए हैं. धीरे-धीरे सांस भी ले रहा है. शेयर करने वालों का कहना है कि ये जलपरी जैसा कुछ है. जलपरी या फिर जलपरा. माने इस बिरादरी का नर. लोग कह रहे कि किसी नदी से निकाला गया है इसको. कोई कहता है गंगा से निकला. कोई लंदन बताता है. कोई दुबई का भी नाम लेता है. कई पोस्ट पर कैप्शन लिखा है:

चौंकाने वाली न्यूज. गंगा नदी में मिली एक जिंदा जलपरी

जो दिखता है, वो कैसा दिखता है?
जिसे लोग जलपरी कह रहे, वो जीव जैसा लगता तो है. मांसल. स्तन निकले हैं. स्तनों के ऊपर निप्पल भी दिख रहे हैं. पेट की जगह पर तोंद जैसा भी निकला है. मांसपेशियां साफ नजर आ रही हैं. कमर के ऊपर गर्दन तक इंसानों जैसा लगता है ये. मुंह कुछ अलग सा है. आगे की तरफ निकला हुआ. जैसा ड्रेगन वाली फिल्मों में ड्रेगन का मुंह होता है. कमर के नीचे मछलियों जैसी आकृति है. कुछ वीडियो में तो वो सांस लेता हुआ भी साफ दिख रहा है. कुल मिलाकर जो भी दिखता है, वो एकदम असली टाइप है.

सच क्या है?
महाभारत की कहानी याद कीजिए. जब पांडवों का इंद्रप्रस्थ बसा था. दुर्योधन भी आया था देखने. एक जगह उसे लगा कि सामने तालाब है. वो बच-बचकर चलने लगा. मालूम चला कि वो बस आर्टिस्ट के हाथों का कमाल था. फर्श को देखने पर तालाब नजर आने का भ्रम होता था. इसी गलतफहमी में दुर्योधन आगे तालाब में गिर गए. द्रौपदी ने देखा. कहा, अंधे का बेटा अंधा. द्रौपदी का ये क्रूर मजाक दुर्योधन के दिल की फांस बन गया. लौटते हैं इस जलपरी वाली पोस्ट पर. वो आर्ट बड़ा उम्दा माना जाता है, जो असली होने का फील दे. इस वायरल पोस्ट में जो ‘जलपरा’ दिख रहा है, वो भी किसी कलाकार का कमाल है. इंटरनेट पर थोड़ी खुदाई के बाद सच पता लग जाता है. जिस कलाकार ने इसे बनाया है, उसकी तस्वीरें मिल जाती हैं. बनाते हुए. चेहरा मालूम चल गया है, मगर नाम पता नहीं चल पाया है अभी.

म्यांमार की मीडिया के मुताबिक, ये वहीं का कोई कलाकार है. लकड़ी और फायबर से बनाई गई इस मूर्ति के गले में मोटर लगा है. इसके कारण देखने में लगता है कि ये सांस ले रहा है. शायद इसी वजह से लोग इसके असली होने की बात पर इतनी आसानी से भरोसा कर ले रहे हैं.
म्यांमार की मीडिया के मुताबिक, ये वहां के स्थानीय कलाकार हैं. लकड़ी और फायबर से बनी इस मूर्ति के गले में मोटर लगा है. इसके कारण देखने में लगता है कि ये सांस ले रहा है. इसी वजह से लोग इसके असली होने की बात पर इतनी आसानी से भरोसा कर रहे हैं.

म्यांमार में एक आर्टिस्ट ने बनाया इसे
ये कमाल का आर्टिस्ट म्यांमार का रहने वाला है. वहां की मीडिया ने बताया है. हम बता ही चुके हैं कि आर्टिस्ट का नाम मालूम नहीं चल पाया है. स्थानीय मीडिया के मुताबिक ये मूर्ति सी चीज लकड़ी और फायबर से बनी है. वीडियो में इसके सांस लेने का रहस्य ये है कि इसके गले में एक मोटर फिट है. वो चलता है, तो लगता है मानो मूर्ति (यानी जलपरी) सांस ले रही हो. जिस समय की तस्वीरें वायरल हो रही हैं, वो किसी प्रदर्शनी में ली गईं थीं. ये वीडियो देखते समय ही आपको पता लग जाएगा. शीशे का कोई कैबिन टाइप है, जहां ये रखा है. वैसे ही जैसे प्रदर्शनियों में होता है. ये तस्वीरें जब सोशल मीडिया पर आईं, तो लोगों ने दो और दो जोड़कर 222 बना दिया. रही-सही कसर पूरी की उसके ‘सांस लेने’ वाले फुटेज ने. और इस तरह जलपरी के जिंदा पकड़े जाने की पूरी स्क्रिप्ट तैयार हो गई.

Source thelallantop

Leave A Reply

Your email address will not be published.