जानिए क्यों पाकिस्तानी लड़कियां चाहती हैं हिंदुस्तानी मर्द से शादी करना, वजह जानकर चौंक जायेंगे

77
ये बात तो आप सभी जानते होंगे कि इस्लाम धर्म का आरम्भ सातवीं सदी से हुआ था. बता दें कि इस धर्म की शुरुआत प्रायद्वीप में हुई थी.

इस्लाम के आखिरी पैगेम्बर मुहम्मद साहब थे. इनका जन्म 570 इस्वी में मक्का में हुआ था. जानकारी के लिए बता दें कि 613 इस्वी के आस-पास से मुहम्मद साहब ने अपने उपदेश देना शुरू कर दिए थे. उपदेश देते हुए उन्होंने इस्लाम धर्म को फैलाना शुरू कर दिया था. आज हम आपको इस्लाम से जुड़ी खास जानकारी देने जा रहे हैं. आइये बताते हैं आपको कुछ रोचक जानकारी..

Pakistani girls

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि इस्लाम में सगे बहन-भाई को छोड़कर किसी से भी शादी की जा सकती है. सगी बहन को छोड़कर चाहे चचेरी बहन क्यों न हो उससे भी शादी की जा सकती है. इस्लाम की इस प्रथा का प्रचलन हर जगह है जहां इस धर्म को माना जाता है. बताया जाता है कि ऐसी शादियाँ आने वाले समय में बहुत परेशानी लेकर आता है. बता दें कि विज्ञान ने भी इस बात को साबित कर दिया है कि सगे-संबंधियों से शादी करने या अपने गोत्र में शादी करने से उनके होने वाले बच्चों पर इसका खासा असर पड़ता है.

आज के समय में ऐसे भी कंट्टरपंथी लोग हैं जो आज भी इस बात को नहीं मानते हैं. बताया गया है कि पाकिस्तान में लोग इस बात को नहीं मानते हैं और इसी का परिणाम है कि पाकिस्तान जैसे देश में आज भी 70% शादियाँ भाई-बहनों के बीच में ही हो जाती है, जिसकी वजह से उन्हें भारी दुष्परिणाम झेलने पड़ते हैं. हालाँकि हाल ही में पाकिस्तान से आये एक सर्वे के अनुसार बताया गया है कि पाकिस्तानी महिलाओं की शादी के लिए पहली पसंद हिन्दुस्तानी मर्द होते हैं.

Pakistani girls

अब आप सोचेंगे कि ऐसा भला क्यों? आखिर पाकिस्तानी मर्द भी तो उतने ही खूबसूरत और काम वाले होते हैं तो फिर हिन्दुस्तानी मर्द उनकी पहली पसंद क्यों हैं? तो हम आपको बता दें कि इसके पीछे की वजह बताई जाती है कि पाकिस्तानी लड़कियां मानती हैं कि भारतीय सास अपनी बहुओं पर ज्यादा प्यार लुटाती हैं जबकि पाकिस्तानी सास अपनी बहुओं पर सिर्फ और सिर्फ जुल्म ढाती हैं.

इसके अलावा पाकिस्तानी लड़कियां मानती हैं कि भारतीय मर्द प्यार के मामले में पाकिस्तानी मर्दों से कई आगे होते हैं, इसलिए भी पाकिस्तानी लड़कियां भारतीय मर्दों से शादी का सपना देखती हैं. साथ ही दहेज़ भी एक बड़ी वजह है. जी हाँ यूँ तो अभी भी भारत के कई हिस्सों में दहेज़ प्रथा चालू है लेकिन इसपर नकेल काफी कसी जा चुकी है जबकि पाकिस्तान में ये कुप्रथा धड़ल्ले से चालू है. इसके बाद और मुद्दों को देखें जैसे पत्नी को उसके हक का सम्मान, परिवार नियोजन, पत्नी की आज़ादी वगैरह-वगैरह तो यकीनन ही इसमें भारत पाकिस्तान से आगे है. तो अब आपको भी समझ आ ही गया होगा कि आखिर पाकिस्तानी महिलाएं आखिर क्यों करना चाहती हैं भारतीय मर्दों से शादी.

Source achhikhabar

Leave A Reply

Your email address will not be published.