एक ओर आसिफा: 10 दिन तक किया नाबालिग छात्रा से बलात्कार

बालिका आश्रम से किशोरी हुई गायब

104

अमन विहार इलाके में 11वीं की एक छात्रा से बलात्कार का मामला सामने आया है। 10 दिन तक एक सिरफिरे बदमाश ने उसे अपने ही घर की तीसरी मंजिल के मचान पर बंधक बनाकर रखा था। किसी तरह वह उसके चंगुल से निकलकर भागने में कामयाब हो गई जिसके बाद मामला सामने आया।

छात्रा सुमन (बदला हुआ नाम) को उस वक्त तमंचे के बल पर एक सिरफिरे बदमाशने उठा लिया जब वह परचून की दुकान से सामान लेने गई थी।
आरोपी कुलदीप उसे दिन भर बाहर घुमाता रहा और रात के समय चुपचाप अपने ही घर की तीसरी मंजिल पर ले गया। उसने उसके हाथ पैर बांध दिए और शोर ना मचा सके इसके लिए उसके मुंह में कपड़ा ठूस दिया। इतना ही नहीं उसने बेल्ट व लोहे के तार से छात्रा को बेरहमी से पीटा और उसके साथ rape को अंजाम दिया। रात भर उसके साथ रहने के बाद कोई देख ना सके इसके लिए दिन में वह उसे कमरे के मचान
पर हाथ पैर बांधकर और मुंह में कपड़ा ठूस कर छिपा देता था। आरोपी सुबह निकल जाता और फिर रात को नशे में आता और फिर वहीं हैवानियत दिखाता ।

वहीं दूसरी ओर सुमन के परिजन भी परेशान थे कि आखिर उनकी बेटी कहां गायब हो गई। उन्होंने कई जगह सुमन को तलाश किया पर वह नहीं मिली। पुलिस ने भी मामले में कोई कार्रवाई नहीं की।

परिजनों को कुलदीप पर पहले से ही शक था क्योंकि सुमन को वह अक्सर ही परेशान किया करता था। उन्होंने उसके घर भी पता किया, लेकिन वहां से भी कोई सुराग नहीं मिला। वह लगातार अपनी बेटी को ढूंढ रहे थे। आखिरकार 10 दिन अचानक से ही सुमन अपने घर पहुंच गई। उसकी हालत बहुत खराब थी । उसके शरीर पर जगह-जगह चोट के निशान थे और वह भूख और प्यास से बदहाल थी। सुमन की मां ने जब उसे इस हाल में देखा तो वह भी घबरा गईं और उन्होंने तुरंत उसके पिता को फोन कर सारी बात बताई । सामान्य होने के बाद सुमन ने सारी आपबीती परिवार वालों को बताई कि किस तरह से उसके साथ हैवानियत हुई। पूरे दस दिनों तक हैवान कुलदीप ने जो उसके साथ किया वह बयां नहीं किया जा सकता। 10 दिन तक न जाने कितनी ही बार उसके साथ बलात्कार किया गया। चीख न सके इसके लिए उसे मुंह में कपड़ा ठूस कर रखा गया। बेल्ट और लोहे के तार से बेरहमी से पीटा गया। किसी को पता न चले | इसके लिए उसे घर की मचान पर छुपाया गया। लेकिन मौका देख एक दिन जब कुलदीप उसे बांधना भूल गया तो सुमन उसके चंगुल से भागने में कामयाब हो गई। अमन विहार पुलिस ने मामला दर्ज कर उसे संजय गांधी हॉस्पिटल में भर्ती कराया जहां से उपचार के बाद उसे घर भेज दिया गया।

वहीं कुलदीप अभी भी Police की गिरफ्त से बाहर है और लगातार उसे जान से मारने की धमकी दे रहा है। परिजनों का आरोप है कि यदि पुलिस मौका रहते मामले को गंभीरता से लेती तो सुमन मिल जाती और कुलदीप भी सलाखों के पीछे होता।