SECURITY TIPS – कहीं आपके पीसी की जासूसी तो नहीं हो रही ?

94

अक्सर हम अपने कम्प्यूटर पर काम के दौरान स्पाइवेयर की परेशानी का सामना करते हैं। ये स्पाइवेयर किसी फ्री सॉफ्टवेयर की आड़ में आपके कम्प्यूटर में जगह बना लेते हैं और आपके डेटा की पहुंच हैकर्स तक बना देते हैं। इन स्पाइवेयर्स को पहचानना बहुत मुश्किल होता है और रिमूव करने के लिए कभी-कभी तो सिस्टम को ही रिसेट करना पड़ जाता है, लेकिन तब तक बहुत देर हो चुकी होती है।

  • क्या होते हैं स्पाइवेयर?
    स्पाइवेयर कम्प्यूटर सॉफ्टवयर प्रोग्राम ही होते हैं, जो यूजर की जानकारी के बिना उसकी सी ड्राइव में सेव हो जाते हैं और एडमिनिस्ट्रेटर को धोखा देकर कम्प्यूटर का सारा डेटा थर्ड पार्टी के साथ शेयर कर देते हैं। ये आपके ब्राउजर तक में सेंध लगा लेते हैं। साथ ही मनी ट्रांजैक्शन के दौरान साइक्ट फ्रॉड का कारण बनते हैं।
  • ऐसे बचें इन ज्ञासूसों से?
    ज्यादातर स्पाइवेयर्स फ्री सॉफ्टवेयर के बंडल में आते हैं इसलिए इन सॉफ्टवेयर को इंस्टॉल करने से पहले उनका रिव्यू जरूर फ्ढ़ लें। सिर्फ प्रतिष्ठित कंपनियों के सॉफ्टवेयर डाउनलोड करें। इंस्टॉल करने के दौरान परमिशन्स को ध्यान से हें और अपनी सी ड्राइव पर किसी नए आइकन को देखकर सावधान हो जाएं।
  • कैसे रिमूव करें इन्हें?
    इन स्पाइवेयर्स को पहचानने और इनसे आपको छुटकारा दिलवाने के लिए कई प्रोग्राम्स इंटरनेट पर उपलब्ध हैं, जिनमें सुपर एंटी स्पाइवेयर, एम्सीसॉफ्ट इमरजेंसी किट, स्पाइवेयर ब्लास्टर, स्पाइबोट और कॉम्बोफिक्स जैसे प्रोग्राम बेहद प्रचलित हैं। आप इनमें से किसी एक का इस्तेमाल कर सकते हैं।