माँ का तनाव करता है स्तनपान को प्रभावित

87

जन्म के बाद स्तनपान (Breastfeeding) मां और बच्चे के बीच संबंधों का पहला सेतु होता है। मां का दूध और स्तनपान – दोनों मां और बच्चे के लिए बहुत महत्वपूर्ण है। इससे बच्चे को मजबूत प्रतिरक्षण, पर्याप्त पोषण, ढेर सारा एंटी ऑक्सीडेंट और एंटी बॉडीज, अच्छी दृष्टि, एलर्जी के कम होने की आशंका, मेटाबोलिक बीमारियां जैसे हाइपर टेंशन, मोटापे आदि का कम जोखिम तथा मस्तिष्क का बेहतर विकास, बच्चे में बोलने और व्यवहार संबंधी समस्याओं का जोखिम कम होना शामिल है। ना सिर्फ बच्चे बल्कि स्तनपान कराने वाली मांएं भी लाभ की स्थिति में रहती हैं क्योंकि इससे उन्हें हृदय की बीमारी का जोखिम कम होता है। रूमेटाइड अर्थराइटिस, लुपस मल्टीपल स्लेरोसिस, संक्रमण आदि से अपने आप प्रतिरक्षण मिलता है। यह कुल मिलाकर मां के स्वास्थ्य को बेहतर करता है। इसके अलावा स्तनपान कराने वाली मांओं को प्रसवोत्तर अवसाद नहीं होता मन मस्तिष्क में सकारात्मकता रहती है तथा अध्ययन के मुताबिक प्रसवोत्तर स्राव कम होता है।

बढ़ रहा मां के तनाव (Stress) का स्तर
मां और बच्चे के बीच भावनात्मक लगाव ज्यादा होता है। अध्ययन से पता चलता है कि ऑक्सीटोसिन और प्रोलैक्टिन जैसे हारमोन की भूमिका होती है जिससे स्तनपान के दौरान मां सहज और शांत महसूस करती है तथा देखा गया है कि इससे स्तनपान कराने वाली मांओं के आत्मसम्मान और आत्मविश्वास में वृद्धि होती है। दूध पिलाने के दौरान त्वचा से त्वचा का संबंध स्नेह और विश्वास पैदा करता है। महिलाएं उच्च स्तर का तनाव झेलती हैं। घर और दफ्तर दोनों के काम, सामाजिक, वित्तीय, भावनात्मक जिम्मेदारियां तथा प्रतिस्पर्धी या किसी अन्य किस्म का तनाव मिलकर स्वास्थ्य पर प्रतिकूल प्रभाव डालते हैं। स्तनपान कराने वाली मां पर इसका बुरा असर होता है।

तनाव कम हो तो दिखता है बेहतर असर
कई अध्ययनों से पता चलता है कि तनाव, चिन्ता और अवसाद से स्तनपान कराना कम होता है। वैसे तो कुछ अध्ययनों में यह भी कहा गया है कि दूध बनना तो नहीं पर दूध का प्रवाह तो प्रभावित होता है।

तनाव कम करने के लिए ये करें
आराम देने वाले व्यायाम जैसे योग, गहरी सांस लेने की प्रैक्टिस, लाफ्टर थैरेपी, कार्यस्थल प्रबंधन पर ध्यान दें। अध्ययनों में यह देखा गया है कि जो महिलाएं बच्चे को ज्यादा समय देती हैं और जन्म के बाद कम से कम छह महीने तक सिर्फ स्तनपान कराती हैं, तो बच्चे का स्वास्थ्य अच्छा रहता है।