हॉस्टल के कमरे से आ रही थी लड़कियों की अजीबगरीब आवाजें, जब दरवाजा खोला तो आंखें फटी की फटी रह गईं

196

आज भले ही सरकार लड़कियों की सुरक्षा के लिए लाख दावे कर लें लेकिन सच्चाई क्या वो आप देख ही रहे हैं। इतनी सुरक्षा के बाद जब लड़कियां घर में सुरक्षित रह पाती हैं तो बाहर की तो उम्मीद ही छोड़ दो। जब देश मेंं लड़कियों के साथ होने वाली ऐसी घटनाएं सुनने को मिलती हैं तो एक बार फिर देश शर्म से झुक जाता है आज हम आपको लड़कियों के हॉस्टर की खबर बताने जा रहे हैं जहां उनके कमरों से अजीबोगरीब आवाजें आ रही थी जब एसडीएम ने दरवाजा खोला तो आंखें फटी की फटी रह गईं।

hostel
source

दरअसल मामला जनकपुर विकासखंड के आदिवासी कन्या आश्रम का है जहां हॉस्टल में लड़कियों के साथ हो रहे प्रताड़ना के बाद जब शिकायत एसडीएम तक पहुंची तो एसडीएम ने आश्रम का जांचबीन की और जैसे ही वो हॉस्टल के कमरे तो पहुंचे कि वहां उन्हें कुछ आवाजे सुनाई दे रही थी एसडीएम ने देखा कि दरवाजा बाहर से बंद था ताकि किसी आवाज बाहर निकल न सके।

जब एसडीएम ने दरवाजा खोला तो उनके होश उड़ गये उन्होंने देखा कि कमरे में कई सारी लड़कियां को रोते-रोते बुरा हाल था। एसडीएम ने हॉस्टल में लड़कियों के साथ ऐसा बर्ताब देखते हुए अधिक्षिका को पद से बर्खास्त कर दिया। जब लड़कियां हॉस्टल के चुंगल से निकली तब उन्होंने एसडीएस को बताया कि अधीक्षिका रूफीना खलको उनके साथ नौकरों से भी बत्तर व्यवहार करती हैं।

लड़कियों ने बताया कि वो उनसे घर का सारा काम करवाती हैं। लड़कियों के साथ हो रहे इतने अत्याचार को सुनते हुए एसडीएम ने पुरानी सभी टीचर्स को हटाकर नई भर्ती की आपको बता दें कि जब लड़कियोंं की बाद उनके माता-पिता को पता चली थी तो उन्होंने कई बार अधिकारियों से शिकायत की थी लेकिन उनकी कोई सुनवाई नहीं की गई थी जिसके बाद जब मामला एसडीएम तक पहुंचा तब लड़कियों को इंसाफ मिल पाया।

Source thenewscafe