गुजरात चुनाव: राहुल गांधी के प्रधानमंत्री मोदी से तीन सवाल

15

गुजरात चुनावों के लिए प्रचार अभियान के आख़िरी दौर में लगता है सियासी पार्टियों ने अपनी पूरी ताक़त झोंक दी है.

गुरुवार को राहुल गांधी ने गुजरात के बोताड, वल्लाभीपुर और भावनगर में चुनावी रैलियों को संबोधित किया. राहुल गांधी के धर्म पर चल रही बहस के बीच वे बोताड के गोपीनाथ मंदिर भी गए.
राहुल के भाषण में नर्मदा के पानी के सवाल से लेकर नैनो परियोजना और नोटबंदी की नाकामी तक का जिक्र था.

उन्होंने कहा, “नोटबंदी का सच ये है कि लग्ज़री गाड़ियों में चलने वाले लोगों ने अपना पूरा काला धन सफ़ेद कर लिया जबकि लाखों लोगों ने अपनी नौकरी गंवाई. महिलाओं ने अपनी बचत का पैसा गंवाया.”

संसद का शीतकालीन सत्र टाले जाने पर राहुल गांधी ने कहा, “मोदी जी संसद में जय शाह पर कोई चर्चा नहीं चाहते. गुजरात तक संसद सत्र टालने की प्रमुख वजह यही है, दूसरी वजह राफेल डील है.”

बोताड में राहुल गांधी बोले, “गुजरात में नैनो परियोजना पर नरेंद्र मोदी ने 33 हज़ार करोड़ रुपये खर्च किए. टाटा कंपनी को देने के लिए ग़रीबों से बिजली और ज़मीन छीनी गई. इसके बावजूद भी सड़कों पर एक भी नैनो कार नहीं दिखाई देती है.”

बोताड में ही राफेल डील पर कांग्रेस उपाध्यक्ष ने तीखे तेवर दिखाए. उन्होंने प्रधानमंत्री से इस डील के बारे में तीन सवाल रखे और कहा कि नरेंद्र मोदी इन सवालों का जवाब नहीं देंगे.

मोदी से राहुल के तीन सवाल

पहला सवाल, मोदी जी जब आपने ये डील कैंसल की तो आपके नए कॉन्ट्रैक्ट में हवाई जहाज़ का दाम बढ़ा या कम हुआ.

दूसरा सवाल, आपने ये कॉन्ट्रैक्ट जिस उद्योगपति को दिया है, उसने अपनी ज़िंदगी में कभी हवाई जहाज़ नहीं बनाया है. एचएएल कंपनी 70 साल से हवाई जहाज़ बना रही है. क्या कारण था कि आपने एचएएल कंपनी से ये कॉन्ट्रैक्ट छीनकर अपने उद्योगपति मित्र को दिया.

तीसरा सवाल, डिफेंस के हर कॉन्ट्रैक्ट में कैबिनेट की सुरक्षा कमिटी से मंजूरी लेनी पड़ती है. हमारी थल सेना, वायु सेना और नेवी कुछ भी ख़रीदे, पहले ये परमिशन लेनी पड़ती है. जब आपने हज़ारों करोड़ का ये कॉन्ट्रैक्ट बदला तो क्या आपने इसकी इजाजत ली. जवाब हां या न में दें.

गुजरात विधानसभा का चुनाव दो चरणों में 9 और 14 दिसंबर को होने जा रहा है. 182 विधानसभा सीटों के लिए मतगणना 18 दिसंबर को की जाएगी.

Source Bbc

Leave A Reply

Your email address will not be published.